#185. ईश्वर को किसान होना चाहिए | विहाग वैभव

#185. ईश्वर को किसान होना चाहिए | विहाग वैभव