#220. दो कविताएँ: गांधारी 1; गांधारी 2 | शशि सहगल

#220. दो कविताएँ: गांधारी 1; गांधारी 2 | शशि सहगल