#170. दर्द हो दिल में तो दवा कीजे | मंज़र लखनवी

#170. दर्द हो दिल में तो दवा कीजे | मंज़र लखनवी