#84. दो नज़्में | फरीहा नक़वी

#84. दो नज़्में | फरीहा नक़वी