#117. वो लम्हा जो मेरा था | अदा जाफ़री

#117. वो लम्हा जो मेरा था | अदा जाफ़री