#91. रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ | अहमद फ़राज़

#91. रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ | अहमद फ़राज़