# 29. हल्की हरी हैं मेरी महबूबा की आँखें | नाज़िम हिक़मत

# 29. हल्की हरी हैं मेरी महबूबा की आँखें | नाज़िम हिक़मत

0 0 11 months ago
'Halki Hari Hain Meri Mehbooba Ki Aankhen' by Nazim Hikmet.
Translated by Suresh Salil.
A Poem A Day by Sudhanva Deshpande.
Read on April 24, 2020
Art by Virkein Dhar.

Find us on Facebook