#39. ग़ज़ल | जाँ निसार अख़्तर

#39. ग़ज़ल | जाँ निसार अख़्तर